Atmosphere composition वायुमण्डल की संरचना

General knowledge quiz, History and Geography 0 Comments

Atmosphere composition वायुमण्डल की संरचना

 

Hi friends now we are discuss the Atmosphere composition वायुमण्डल की संरचनाrelated information and details with all explanations Atmosphere composition वायुमण्डल की संरचनाrelated question ask in bank SSC CGL clerk exam and other compitetive exams.

 

1-क्षोभमण्डल (Troposphere)
 यह मण्डल (Circles)जैव मण्डलीय(Divisional Bio) पारिस्थितिकी तंत्र के
लिए सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण (Important)है क्योंकि मौसम (weather)संबंधी
सारी घटनाएं(Events) इसी में घटित होती हैं।
प्रति 165 मीटर की ऊंचाई पर वायु का तापमान(Temperature)
1 डिग्री सेल्सियस (Celsius)की औसत दर से घटता है। इसे सामान्य ताप पतन(Fall) दर कहते है।
इस मण्डल की सीमा विषुवत (Equatorial)वृत्त के ऊपर 18
किमी की ऊंचाई तक तथा ध्रवों (Dhrvon)के ऊपर लगभग 8
किमी तक है।
2-समतापमण्डल (Stratosphere)
इसकी मोटाई (Thickness)50 किमी से 55 किमी तक है।

इस मण्डल में तापमान (Temperature)स्थिर रहता है तथा इसके
बाद ऊंचाई के साथ बढ़ता (Growing)जाता है।
समताप मण्डल (Stratosphere)बादल तथा मौसम संबंधी घटनाओं (Events)सेमुक्त रहता है।
इस मण्डल के निचले भाग में जेट वायुयान (Jet aircraft)के उड़ान भरने के लिए आदर्श (Ideal) दशाएं हैं।
इसकी ऊपरी सीमा (Limit)को ‘स्ट्रैटोपाज’ (Stratopaj) कहते हैं।
इस मण्डल के निचले भाग में ओज़ोन गैस (Ozone gas)बहुतायात में पायी जाती है। इस ओज़ोन बहुल मण्डल को
ओज़ोन मण्डल (Ozone Board) कहते हैं।
ओज़ोन गैस सौर्यिक विकिरण (Radiation) की हानिकारक(Harmful)
पराबैंगनी (Ultraviolet)किरणों को सोख लेती है और उन्हें भूतल
तक नहीं पहुंचने देती है तथा पृथ्वी को अधिक गर्म
होने से बचाती हैं।
3-मध्यमण्डल (Mdyamndl)
इसका विस्तार 50-55 किमी से 80 किमी तक है।
इस मण्डल में तापमान ऊंचाई (Temperature elevation)के साथ घटता जाता
है तथा मध्यमण्डल (Mdyamndl)की ऊपरी सीमा मेसोपाज (Mesopaj)पर
तापमान 80 डिग्री सेल्सियस बताया जाता है।
4-आयन मण्डल (Ion Board)
इस मण्डल(Board) में ऊंचाई के साथ ताप में तेजी(Fast) से वृद्धि होती है।
आयन मण्डल, तापमण्डल (Temperature )का निचला भाग है
जिसमें विद्युत आवेशित (Charged) कण होते हैं जिन्हें आयन कहते हैं।
ये कण रेडियो तरंगों (Waves)को भूपृष्ठ पर परावर्तित (Reflected)करते हैं और बेतार संचार को संभव (possible)बनाते हैं।
5बाह्यमण्डल (Bahyamndl)

इसे वायुमण्डल(atmosphere) का सीमांत(Border) क्षेत्र कहा जाता है।
इस मण्डल(Circles) की वायु अत्यंत विरल (Sparse)होती है।

अगर आप फेसबुक से जुड़े हैं और प्रतिदिन कैरियर, कम्पटीशन ; (BANK, CIVIL SERVICES, SSC, MBA, RAILWAY and OTHEREXAM.) करेन्ट अफेयर्स,जेनरल नॉलेज और जॉब से सम्बन्धित प्रतिदिन जानकारी चाहते हैं, तो आप FRIEND REQUESTअथवा FOLLOW करे।

http://www.gkshort.in or

http://www.shriramedu.com

अपने सामान्य ज्ञान को बढाने हेतु श्रीराम कोचिंग के पेज को लाईक करें—अधिक प्रश्नो एवं सामान्य ज्ञान के सर्वोत्तम संकलन हेतु अभी इस पेज को अपनी पसंद में जोङें।www.facebook.com/shriramedu or https://www.facebook.com/Gkshort-hindi-GK-1319303558087630/

Share with your friends………श्रीराम कोचिंग, सीक

 

 

Share with your friends and write your comments
इस पोस्ट को देख कर अपना कमेन्ट अवश्य लिखें